अच्छा कोलेस्ट्रॉल क्या है और यह महत्वपूर्ण क्यों है?

कोलेस्ट्रॉल एक मोमी पदार्थ है जो आपके सभी कोशिकाओं में पाया जाता है और आपके शरीर की कोशिकाओं को बनाने में मदद करने सहित कई उपयोगी कार्य करता है। यह आपके रक्तप्रवाह में प्रोटीन से जुड़ा रहता है। इन प्रोटीनों को लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एचडीएल) कोलेस्ट्रॉल को “अच्छा” कोलेस्ट्रॉल के रूप में जाना जाता है क्योंकि यह आपके रक्तप्रवाह से कोलेस्ट्रॉल के अन्य रूपों को हटाने में मदद करता है। एचडीएल कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर से हृदय रोग के जोखिम कम हो जाते हैं।

एचडीएल आपके रक्त से अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को उठाता है और इसे आपके यकृत में वापस ले जाता है जहां यह टूटता है और आपके शरीर से निकाल दिया जाता है।

कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर आपकी रक्त वाहिकाओं की दीवारों के भीतर के मार्ग को संकीर्ण कर सकता हैं। आपके रक्त में कभी-कभी एक थक्का बन सकता है और संकुचित स्थान में फंस सकता है, जिससे दिल का दौरा या स्ट्रोक हो सकता है। यही कारण है कि एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को अक्सर “खराब” कोलेस्ट्रॉल के रूप में जाना जाता है।

कोलेस्ट्रॉल एक वसा है, जो लिवर द्वारा उत्पन्न होती है। यह शरीर के सुचारु रूप से कार्य करने के लिए जरूरी है। हमारे शरीर की प्रत्येक कोशिका को जीवित रहने के लिए कोलेस्ट्रॉल की आवश्यकता होती है। कोलेस्ट्रॉल मोम जैसा चिकना पदार्थ है, जो ब्लड प्लाज्मा द्वारा शरीर के विभिन्न हिस्सों में पहुंचता है। कोलेस्ट्रॉल दो तरह का होता है, एलडीएल (लो डेन्सिटी लिपोप्रोटीन) और एचडीएल (हाई डेन्सिटी लिपोप्रोटीन)। एलडीएल को लोग अक्सर बुरा कोलेस्ट्रॉल कहते हैं। एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को लिवर से कोशिकाओं में ले जाता है। अगर इसकी मात्रा ज्यादा होगी तो यह कोशिकाओं में हानिकारक रूप में इकट्ठा होने लगेगा। समय बीतने के साथ एलडीएल धमनियों को संकरा कर देता है, जिससे रक्त का प्रवाह सुचारु रूप से नहीं हो पाता। मानव रक्त में एलडीएल की मात्र औसतन 70 प्रतिशत होती है। यह कोरोनरी हार्ट डिसीजेज और स्ट्रोक का सबसे बड़ा कारण है। एचडीएल को अच्छा कोलेस्ट्रॉल माना जाता है। विशेषज्ञों का मानना है कि यह कोरोनरी हार्ट डिसीज और स्ट्रोक को रोकता है। एचडीएल, कोलेस्ट्रॉल को कोशिकाओं से दूर वापस लिवर में ले जाता है। लिवर में या तो यह टूट जाता है या व्यर्थ पदार्थों के साथ शरीर के बाहर निकाल दिया जाता है।

कोलेस्ट्रॉल कोशिकाओं की बाहरी परत का निर्माण करता है और उनका रखरखाव करता है।- यह एड्रिनल ग्रंथि द्वारा स्नवित हार्मोनों कार्टिसोल, एल्डोस्टेरन आदि के स्राव के लिए जरूरी है। यह सूरज की किरणों को विटामिन डी में बदलने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

वसा में घुलनशील विटामिनों (विटामिन ए, डी, ई और के) के मेटाबॉलिज्म के लिए भी यह कोलेस्ट्रॉल जरूरी है।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Related posts

Leave a Comment