बीसीसीआई: ने रोहित शर्मा का नाम खेल रत्न के लिए भेजा

मुंबई. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने वनडे टीम के उपकप्तान रोहित शर्मा का नाम खेल रत्न के लिए भेजा है। इसके अलावा शिखर धवन और तेज गेंदबाज इशांत शर्मा को अर्जुन अवॉर्ड देने की सिफारिश की है। महिला वर्ग में बोर्ड ने ऑलराउंडर दीप्ति शर्मा को अर्जुन अवॉर्ड देने की सिफारिश की है।

इस साल के अर्जुन अवॉर्ड और खेल रत्न के लिए जनवरी 2016 से दिसंबर 2019 तक के प्रदर्शन पर विचार किया जाएगा।

बोर्ड ने 2018 में भी धवन का नाम अर्जुन अवॉर्ड के लिए भेजा था। लेकिन उन्हें सम्मान नहीं मिला था। भारतीय कप्तान विराट कोहली को 2018 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार दिया गया था। इससे पहले महेंद्र सिंह धोनी को 2008 में यह सम्मान मिला था। उनसे 10 साल पहले यानी 1998 में सचिन तेंदुलकर खेल रत्न चुने गए थे।

रोहित खेल रत्न पाने के असल हकदार: गांगुली

राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के लिए खिलाड़ियों के चुनाव को लेकर बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा- नाम शॉर्टलिस्ट करने से पहले हमने कई पैमानों पर खिलाड़ियों को परखा। रोहित ने बतौर बल्लेबाज नए स्टैंडर्ड तय किए हैं। उन्होंने खेल के छोटे फॉर्मेट (वनडे और टी-20) में ऐसे लक्ष्य हासिल किए हैं, जो लगभग नामुमकिन हैं। इसलिए हमें लगा है कि वह खेल रत्न पाने के असल हकदार है।

‘इशांत और धवन के प्रदर्शन में भी निरंतरता’

गांगुली ने आगे कहा- इशांत शर्मा टेस्ट टीम के सबसे सीनियर सदस्यों में से एक हैं। टीम इंडिया के टेस्ट में नंबर-1 बनने में उनका बड़ा योगदान है। वहीं, शिखर आईसीसी इवेंट में लगातार रन बना रहे हैं, जबकि दीप्ति बेहतरीन ऑलराउंडर हैं।

रोहित 2019 में वनडे क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुने गए थे

रोहित को 2019 में आईसीसी वनडे क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया था। वे वनडे वर्ल्ड कप के इतिहास में ऐसे इकलौते बल्लेबाज हैं, जिसने एक टूर्नामेंट में पांच शतक लगाए हैं। उन्होंने 2019 में इंग्लैंड में हुए विश्व कप में यह उपलब्धि हासिल की थी। वहीं, टी-20 फॉर्मेट में भी 4 शतक लगाने वाले वे एकमात्र बल्लेबाज हैं।

रोहित ने अब तक 224 वनडे में 29 शतकों की बदौलत 9115, जबकि 32 टेस्ट में 2141 रन बनाए हैं। टेस्ट में उन्होंने 6 शतक और 10 अर्धशतक लगाए हैं। इस बल्लेबाज ने अब तक 108 टी-20 खेले हैं। इसमें 2773 रन बनाए हैं।

कोरोना की वजह से ऑनलाइन आवेदन मंगाए गए

खेल मंत्रालय ने कोरोनावायरस की वजह से इस बार राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के दावेदारों से नामांकन ई-मेल से मंगाए हैं। आमतौर पर नामांकन भेजने की प्रक्रिया अप्रैल में ही शुरू हो जाती है। लेकिन इस बार लॉकडाउन की वजह से मई में आवेदन मांगे गए हैं।

नामांकन जमा कराने की आखिरी तारीख तीन जून

ऑनलाइन नामांकन जमा कराने की तारीख 3 जून तय की गई है। इसके बाद अगर कोई भी कोच और खिलाड़ी नामांकन भेजता है तो उसके नाम पर विचार नहीं किया जाएगा।

खेल दिवस पर राष्ट्रपति देते हैं पुरस्कार

हर साल 29 अगस्त को हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन के मौके पर राष्ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है। इसी दिन राष्ट्रपति भवन में आयोजित सादे समारोह में राजीव गांधी खेल रत्न, अर्जुन अवॉर्ड, द्रोणाचार्य अवॉर्ड और ध्यानचंद पुरस्कार दिए जाते हैं।

डोपिंग में फंसे खिलाड़ी आवेदन नहीं कर सकते 
ऐसे खिलाड़ी राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के लिए आवेदन नहीं भेज सकते हैं, जिन्हें नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी यानी नाडा ने डोपिंग का दोषी पाया हो या उनके खिलाफ जांच चल रही हो।

पिछले साल पहलवान बजरंग पूनिया को खेल रत्न मिला था
खेल रत्न भारत का सर्वोच्च खेल पुरस्कार है। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर इसका नाम रखा गया है। हर साल देश के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी को यह दिया जाता है। पुरस्कार के साथ खिलाड़ी को 7.5 लाख रुपए और एक प्रतिमा दी जाती है। वहीं, अर्जुन अवॉर्ड जीतने वाले खिलाड़ी को पांच लाख रुपए दिए जाते हैं। पिछले साल पैरालिंपियन दीपा मलिक और पहलवान बजरंग पूनिया को यह पुरस्कार मिला था।

पसंद आया तो—— कमेंट्स बॉक्स में अपने सुझाव व् कमेंट्स जुरूर करे  और शेयर करें

Idea TV News:- से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें  पर लाइक और  पर फॉलो करें

 

 

 

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Related posts

Leave a Comment