बिहार में: मंत्रिमंडल विस्तार के बाद हुई पहली कैबिनेट बैठक, इन एजेंडों पर लगी मुहर

मुख्य सचिवालय में हुई इस बैठक में एक एजेंडे पर मोहर लगी है. बढ़ती जनसंख्या एवं जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न चुनौतियों से निपटने के लिए जल-जीवन-हरियाली अभियान का क्रियान्वयन किया जा रहा है. जल जीवन हरयाली कार्यक्रम का विस्तार 2025 तक किया गया.

बिहार में महागठबंधन की नई सरकार की गठन के बाद आज 31 मंत्रियों ने गोपनीयता की शपथ ली. नीतीश कैबिनेट के विस्तार के बाद मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा कर दिया गया.  मंत्रिमंडल विस्तार के बाद आज कैबिनेट की पहली बैठक हुई. मुख्य सचिवालय में हुई इस बैठक में एक एजेंडे पर मोहर लगी है. बढ़ती जनसंख्या एवं जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न चुनौतियों से निपटने के लिए जल-जीवन-हरियाली अभियान का क्रियान्वयन किया जा रहा है. जल जीवन हरयाली कार्यक्रम का विस्तार 2025 तक किया गया.

आज हुए कैबिनेट की बैठक में ग्रामीण विकास विभाग ने जल-जीवन-हरियाली अभियान के विस्तारीकरण एवं इसके क्रियान्वयन पर वित्तीय वर्ष 2022-23 से वर्ष 2024-25 तक होने वाले अनुमानित व्यय कुल 12568.97 करोड़ रूपये की स्वीकृति दी गयी है. वहीं, जल-जीवन-हरियाली मिशन के विस्तारीकरण एवं इसके प्रशासनिक मद पर वित्तीय वर्ष 2022-23 से वर्ष 2024-25 तक होने वाले अनुमानित व्यय कुल 37.38 करोड़ रूपये की स्वीकृति कैबिनेट ने दी.

बता दें कि, आज मंत्रियों के विभागों की भी घोषणा कर दी गई है. मंत्री मंडल विस्तार में लेकिन RJD का दबाबा जरूर रहा क्योंकि सबसे ज्यादा मंत्री इसी पार्टी से बने. आरजेडी से 16 मंत्री, जेडीयू से 11 मंत्रियों ने शपथ ग्रहण की. वहीं, कांग्रेस से 2, हम से एक और एक निर्दलीय विधायक को मंत्री बनाया गया . मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गृह विभाग अपने पास ही रखा है.  तेजस्वी यादव को स्वास्थ्य विभाग, पथ निर्माण विभाग, नगर विकास एवं आवास विभाग और ग्रामीण कार्य विभाग मिला है. मंत्री तेज प्रताप यादव को पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग की जिम्मेदारी दी गई है.

संद आया तो—— कमेंट्स बॉक्स में अपने सुझाव व् कमेंट्स जुरूर करे  और शेयर करें

आईडिया टीवी न्यूज़ :- से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें यूट्यूब और   पर फॉलो लाइक करें

Related posts

Leave a Comment