नई दिल्ली: शुक्रवार को वॉशिंगटन में रूबरू होंगे मोदी-बाइडन, क्वाड बैठक में भी शामिल होंगे

क्वाड को लेकर चीन के बयान के बारे में एक सवाल के जवाब में प्रवक्ता ने विदेश मंत्री एस जयशंकर के हाल के बयान को उद्धृत किया जिसमें उन्होंने कहा कि क्वाड टीके, आपूर्ति श्रृंखला, शिक्षा, जलवायु परिवर्तन और कनेक्टिविटी जैसे मुद्दों पर केंद्रित है।

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 23 सितंबर को अमेरिका रवाना होंगे। वे वहां क्वाड देशों की शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे तथा अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन एवं समूह के अन्य नेताओं के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे। पीएम मोदी व राष्ट्रपति बाइडन की 24 सितंबर को पहली प्रत्यक्ष मुलाकात होगी। व्हाइट हाउस द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि राष्ट्रपति बाइडन ने क्वाड देशों के नेताओं की पहली प्रत्यक्ष बैठक भी आयोजित की है। इसमें पीएम मोदी के अलावा आस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन व जापान के पीएम योशिहिदे सुगा भी शामिल होंगे।

इससे पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने साप्ताहिक संवादददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 24 सितंबर को वाशिंगटन में क्वाड समूह की बैठक में उपस्थित रहेंगे। इसके बाद 25 सितंबर को वे न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 76वें सत्र के एक उच्च स्तरीय खंड को भी संबोधित करेंगे।’’ उन्होंने बताया कि वाशिंगटन में प्रधानमंत्री जो बाइडन के साथ द्विपक्षीय बैठक भी करेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी 24 सितंबर को अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन, जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा और अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ क्वाड नेताओं के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। बता दें कि क्वाड समूह में अमेरिका, भारत, आस्ट्रेलिया और जापान शामिल हैं। अमेरिका क्वाड समूह की बैठक कर रहा है जिसमें समूह के नेता हिस्सा लेंगे।

इसके जरिये अमेरिका हिन्द प्रशांत क्षेत्र में सहयोग और समूह के प्रति उसकी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करने का मजबूत संकेत देना चाहता है। मार्च में अमेरिकी राष्ट्रपति ने क्वाड देशों के नेताओं की पहली शिखर बैठक डिजिटल माध्यम से आयोजित की थी और लोकतांत्रिक मूल्यों के आधार पर मुक्त एवं समावेशी हिन्द प्रशांत क्षेत्र को लेकर प्रतिबद्धता प्रकट की थी। समझा जाता है कि इसका परोक्ष संदेश चीन को लेकर था।

क्वाड को लेकर चीन के बयान के बारे में एक सवाल के जवाब में प्रवक्ता ने विदेश मंत्री एस जयशंकर के हाल के बयान को उद्धृत किया जिसमें उन्होंने कहा कि क्वाड टीके, आपूर्ति श्रृंखला, शिक्षा, जलवायु परिवर्तन और कनेक्टिविटी जैसे मुद्दों पर केंद्रित है। बागची के अनुसार, विदेश मंत्री ने कहा था कि क्वाड मुक्त एवं समावेशी हिन्द प्रशांत क्षेत्र एवं अंतरराष्ट्रीय कानून के सम्मान का विचार रखता है।

पसंद आया तो—— कमेंट्स बॉक्स में अपने सुझाव व् कमेंट्स जुरूर करे  और शेयर करें

आईडिया टीवी न्यूज़ :- से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें यूट्यूब और   पर फॉलो लाइक करें

Related posts

Leave a Comment