संविधान दिवस: पीएम मोदी ने कहा, बाबा साहब ने देश को बहुत बड़ा नजराना दिया है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज का दिवस डॉ. अम्बेडकर और डॉ. राजेंद्र प्रसाद जैसे दूरंदेशी महानुभावों को याद करने का है. आज का दिवस इस दिवस को याद करने का है.

संविधान दिवस के मौके पर संसद के सेंट्रल हॉल में कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है. इस कार्यक्रम में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज का दिवस बाबासाहेब अम्बेडकर, डॉ राजेन्द्र प्रसाद जैसे दुरंदेशी महानुभावों का नमन करने का है. आज का दिवस इस सदन को प्रणाम करने का है.

पीएम मोदी ने कहा आज 26/11 हमारे लिए एक ऐसा दुखद दिवस है, जब देश के दुश्मनों ने देश के भीतर आकर मुंबई में आतंकवादी घटना को अंजाम दिया भारत के अनेक वीर जवानों ने आतंकवादियों से लोहा लेते-लेते अपने आप को समर्पित कर दिया. मैं आज 26/11 को उन सभी बलिदानियों को भी आदरपूर्वक नमन करता हूं.

पीएम मोदी ने ये भी कहा कि अच्छा होता कि आजादी के बाद ही 26 नवंबर को हर बार संविधान दिवस मनाना चाहिए था, जिससे ये पता चल सकता कि संविधान कैसे बनाया गया. हमारा संविधान हमारे विविध देश को बांधता है. कई बाधाओं के बाद इसका मसौदा तैयार किया गया और देश की रियासतों को एकजुट किया.

पीएम मोदी बोले हमारा संविधान ये सिर्फ अनेक धाराओं का संग्रह नहीं है, हमारा संविधान सहस्त्रों वर्ष की महान परंपरा, अखंड धारा उस धारा की आधुनिक अभिव्यक्ति है. इस संविधान दिवस को इसलिए भी मनाना चाहिए, क्योंकि हमारा जो रास्ता है, वह सही है या नहीं है, इसका मूल्यांकन करने के लिए मनाना चाहिए.

पीएम मोदी ने कहा कि कश्मीर से कन्याकुमारी जाइए, भारत एक ऐसी स्थिति की तरफ बढ़ रहा है जो लोकतंत्र के समर्थक लोगों के लिए चिंता की वजह होना चाहिए. ये है राजनीतिक पार्टियां.

संविधान दिवस कार्यक्रम में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि भारतीय संविधान मात्र क़ानूनी मार्गदर्शन की व्यवस्था तक ही सीमित नहीं है बल्कि सामाजिक आर्थिक परिवर्तन का दस्तावेज भी है. संविधान का निर्माण करने वाले महान संविधान मनुष्यों को मैं नमन करता हूं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला पार्लियामेंट के सेंट्रल हॉल में संविधान दिवस के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल हुए.

विपक्षी दलों ने किया बहिष्कार

कांग्रेस सहित कई विपक्षी दलों ने इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया है. कांग्रेस के अलावा वामपंथी दल, तृणमूल कांग्रेस, राजद, शिवसेना, एनसीपी, सपा, आईयूएमएल और द्रमुक समेत 14 दल आज संसद के सेंट्रल हॉल में आयोजित होने वाले संविधान दिवस समारोह का बहिष्कार कर रहे हैं.

बीजेपी ने किया हमला

इस बीच बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा है कि कांग्रेस और 14 विपक्षी दलों का संसद में संविधान दिवस समारोह का बहिष्कार करना भारत के संविधान का अनादर है. यह साबित करता है कि कांग्रेस केवल नेहरू परिवार के नेताओं का सम्मान कर सकती है जबकि बीआर अंबेडकर सहित कोई अन्य नेता का नहीं.

नड्डा ने प्रस्तावना पढ़ने पर दिया जोर

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि बीआर अंबेडकर ने समानता पर जोर दिया, जहां सभी की भागीदारी से लोकतंत्र का विकास होता है. नड्डा ने कहा कि संविधान दिवस पर हमें प्रस्तावना को ध्यान से पढ़ना चाहिए. सरकारें आती हैं और जाती हैं, लेकिन लोकतंत्र में हमारे मौलिक अधिकार समृद्ध होने चाहिए. नड्डा ने कहा कि हम सभी भारत रत्न बीआर अंबेडकर को स्वतंत्र भारत में उनके योगदान और भारत के संविधान को देने के लिए याद करते हैं जो आज हमारे पास है. 1949 में आज ही के दिन संविधान सभा ने भारत के संविधान को अंगीकार किया था.

पसंद आया तो—— कमेंट्स बॉक्स में अपने सुझाव व् कमेंट्स जुरूर करे  और शेयर करें

आईडिया टीवी न्यूज़ :- से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें यूट्यूब और   पर फॉलो लाइक करें

 

Related posts

Leave a Comment